परीक्षा पे चर्चा : युवाओं के लिए तनाव मुक्त माहौल बनाने का एक अभियान

धर्मेंद्र प्रधान परीक्षा पे चर्चा (पीपीसी) का बहुप्रतीक्षित छठा संस्करण फिर से आपके लिए प्रस्तुत किया जा रहा है। पीपीसी 2023 तालकटोरा इंडोर स्टेडियम में 27 जनवरी 2023 को सुबह 11 बजे आयोजित किया जाएगा। इस कार्यक्रम में देश-विदेश के करोड़ों छात्र, शिक्षक और अभिभावक भाग लेंगे। इस वर्ष पंजीकरण में अभूतपूर्व वृद्धि दर्ज की […]

Continue Reading

डॉ जमशेद जे ईरानी : एक कॉर्पोरेट दिग्गज

बी मुथुरामन डॉ जमशेद ईरानी उन प्रमुख हस्तियों में से एक हैं, जिन्होंने भारत के उदारीकरण के बाद के युग में भारतीय उद्योग की नींव रखने में मदद की। टाटा स्टील के प्रबंध निदेशक के रूप में 1992 से और रतन टाटा, जिन्हें उस वक्त टाटा स्टील के चेयरमैन बने एक साल से भी कम […]

Continue Reading

भारत में स्वच्छता क्रांति की निरंतरता : ओडीएफ से ओडीएफ प्लस तक

विनी महाजन भारत ने 2014 में अपनी अभूतपूर्व स्वच्छता यात्रा शुरू की, क्योंकि खुले में शौच से मुक्त (ओडीएफ) राष्ट्र बनाने के लिए सुसंगत और ठोस प्रयास शुरू किए गए। दुनिया में सबसे बड़े व्यवहार परिवर्तन कार्यक्रम के रूप में माना जाने वाले स्वच्छ भारत मिशन (एसबीएम) ने प्रत्येक भारतीय गांव को एक बड़ी उपलब्धि […]

Continue Reading

Rabies : पागल जानवरों के काटने से होने वाली एक जानलेवा बीमारी

डॉ सुशील प्रसाद रैबीज एक विषाणुजनित संक्रामक बीमारी है। यह वायरस संक्रमित पशुओं के काटने और खरोंचने से मनुष्यों में फैलता है। यह एक जानलेवा रोग है। इसकी रोकथाम के बारे में जागरुकता बढ़ाने के लिये प्रतिवर्ष 28 सितंबर को विश्व रैबीज दिवस मनाया जाता है। रैबीज की रोकथाम की नींव फ्रांस के प्रसिद्ध जीव […]

Continue Reading

किशोरावस्था में सही पोषण बहुत जरूरी

गजाला मतीन किशोरावस्था उम्र एक ऐसा दौर है, जिसमें शारिरिक एवं मानसिक विकास सबसे अधिक होता है। सही पोषण इस उम्र में बहुत जरूरी होता है। किशोररावस्था की लड़कियों के लिए सही पोषण इस समय महत्वपूर्ण इसलिए भी है, क्योंकि आगे मातृत्व जीवन में सही पोषण रोग प्रतिरोधक क्षमता प्रदान करती है। सही पोषण की […]

Continue Reading

झारखंडी सांस्कृतिक आंदोलन के अगुवा थे ईश्वरी प्रसाद

सुजीत कुमार केशरी समाज, राज्य और देश की सेवा करने वाले कालजयी होते हैं। उन्हें ना तो काल अपने समय में बांध पाता है और ना तो भौगोलिक सीमाओं में वे सिमटते हैं। ऐसे लोग दैहिक रूप से हमारे बीच नहीं रहते हैं, लेकिन अपने व्यक्तित्व एवं कृतित्व से अपनी उपस्थिति दर्ज कराते हैं। ऐसे […]

Continue Reading

इन प्रयासों से श्रमिकों को मिला है एक सुरक्षा कवच

प्रो केवी सुब्रमण्यम प्रधानमंत्री श्रम-योगी मानधन योजना, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना जैसे अनेक प्रयासों ने श्रमिकों को एक तरह का सुरक्षा कवच दिया है। ऐसी योजनाओं की वजह से असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के मन में ये भाव जगा है कि देश उनके श्रम का भी उतना ही सम्मान करता […]

Continue Reading

भारत के पहले इस्पात संयंत्र के वास्तुकार थे फौलादी पुरुष सर दोराबजी टाटा

जमशेदपुर। सर दोराबजी टाटा का कहना था, ‘भाग्य ने मुझे देश की सेवा की उनकी (जमशेतजी की) अमूल्य विरासत को पूरा करने में मदद करने के लिए प्रोत्साहित किया।‘ सर दोराबजी टाटा जमशेदजी नसरवानजी टाटा और हीराबाई टाटा के बड़े बेटे थे।  उनका जन्म 27 अगस्त, 1859 को बॉम्बे (अब मुंबई) में हुआ था। सर […]

Continue Reading

इस वजह से लुप्तप्राय होते जा रहे हाथियों का संरक्षण जरूरी

हाथी दिवस-2022 पर विशेष मुकेश कुमार कहावत है कि हाथी कभी नहीं भूलते, ऐसा शायद उनकी दिमाग की बड़ी संरचना के कारण होता है। यही उन्हें कमाल का स्मृति कौशल देता है। हाथी दिवस हर साल 12 अगस्त को पूरे विश्व भर में वर्ष, 2012 से ही मनाया जाता है। हाथी भू पर पाया जाने […]

Continue Reading

महिला अधिकारों पर पश्चिम देशों को भारत दिखा रहा आगे की राह

स्मृति इरानी पश्चिमी देशों में गर्भपात पर लगभग पूर्ण प्रतिबंध के खिलाफ सोशल मीडिया और सड़कों पर चिंतित करने वाले विरोध प्रदर्शनों व हंगामे के बीच, गर्भावस्था की समाप्ति पर भारत का उदार रुख बहुत सुकून देने वाले देश के रूप में है। व्यावसायिक सरोगेसी पर रोक और शादी के लिए पुरुषों और महिलाओं की […]

Continue Reading