मां दुर्गा की प्रतिमा का विसर्जन, नम आंखों से लोगों ने दी विदाई

झारखंड धर्म/अध्यात्म
Spread the love

विवेक चौबे

गढ़वा। जिले के कांडी प्रखंड में मां जगदम्बे की प्रतिमा विसर्जन के साथ ही दस दिवसीय दुर्गा पूजा समारोह शांति और सौहार्दपूर्ण के साथ सम्पन्न हो गया। विभिन्न गांव और टोलों पर पिछले दस दिनों से मां जगदम्बे की हो रही पूजा-अर्चना गुरुवार को प्रतिमा विसर्जन के साथ सम्पन्न हुआ। लोगों ने नम आंखों से मां को विदाई दी। अगले वर्ष जल्द आने का निमंत्रण भी मां को दिया।

कुछ पूजा पंडालों की प्रतिमा का विसर्जन बुधवार को ही हो गया था। अधिकांश पूजा पंडालों की मूर्ति विसर्जन गुरुवार को हुआ। मूर्ति विसर्जन के दौरान डीजे, बैंड बाजे व ढोल की ताल पर युवक नृत्य करते रहे। प्रखंड के पहाड़ी क्षेत्र की मूर्ति विसर्जन सतबहिनी झरना तीर्थ में तो कुछ पंडी नदी में किया गया। चटनिया, पिपरडीह व घोड़दाग गांव की मूर्ति का विसर्जन चटनिया डैम में किया गया।

हरिगावां की मूर्ति का विसर्जन कोइया नामक आहर में किया गया। कांडी, डूमरसोता, सड़की, पखनहा, बरवाडीह, सोनपुरा ढेलकाडीह गांव में स्थापित मूर्ति का विसर्जन सोन नदी में किया गया। भंडरिया, सोहगाड़ा, राणाडीह, मोखापी, कोरगांई, जयनगरा, खरौंधा, गाड़ा, कसनप व सुंडीपुर की प्रतिमा का विसर्जन कोयल नदी में सम्पन्न हुआ।

प्रतिमा विसर्जन के दौरान कोई घटना या दुर्घटना न हो, इसलिए शांति व्यवस्था को लेकर थाना क्षेत्र के संवेदनशील जगहों पर पुलिस बल तैनात रहे। थाना प्रभारी फैज रब्बानी ने बताया कि कहीं से कोई अप्रिय घटना घटने की सूचना नहीं है।

मौके पर लमारी कला पँचायत के मुखिया प्रतिनिधि रिंकू सिंह, डॉक्टर दिनेश पासवान, बब्लू चौबे, शिक्षक सुनील तातो, स्वयंसेवक सुनंद कुमार, मुखदेव प्रजापति, अरुण तातो, जगरनाथ प्रजापति, बिरेन्द्र प्रजापति, प्रमोद कुमार, अखिलेश सिपाही सहित सैकड़ों गणमान्य लोग व ग्रामीण उपस्थित थे।