कुलपति का किसान हित में शोध और प्रसार कार्यों में बेहतर समन्यवय पर जोर

कृषि झारखंड
Spread the love

  • बीएयू में 42वीं खरीफ रिसर्च कौंसिल का समापन संपन्न

रांची। बीएयू कुलपति डॉ ओंकार नाथ सिंह की अध्यक्षता में 42वीं खरीफ रिसर्च काउंसिल की बैठक का समापन बुधवार को हुआ। अध्यक्षीय संबोधन में कुलपति ने विश्वविद्यालय के शोध एवं प्रसार कार्यक्रमों से जुड़े वैज्ञानिकों को बेहतर तालमेल, समन्वय एवं सहयोग से किसान हित में कार्य करने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि विगत दो वर्षो में वैज्ञानिकों ने फसल सुधार के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य किया है। इस कार्य में निरंतरता बनाये रखने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि आधुनिक कृषि में नित्य नये तकनीकी शामिल हो रही है। इसे प्रदेश के उपयुक्त और किसानों के त्वरित लाभ के लिए शोध में तेजी लानी होगी।

विकसित फसलों का बीज किसानों को दिया

डॉ सिंह ने कहा कि हाल में विकसित फसल किस्मों को कृषि विज्ञान केन्द्रों के माध्यम से राज्य के किसानों के बीच प्रचलित करने के दिशा में प्रयास करने होंगे, ताकि विवि तकनीकी का सही समय पर सही लाभ किसानों को मिल सकें। कुलपति ने कार्यक्रम में भाग ले रहे दो किसानों को विवि द्वारा हाल में विकसित सभी फसल किस्मों के बीज प्रदान कि‍ये। फसल प्रदर्शन से किसानों को अवगत कराने को कहा। मौके पर हाल में विकसित 4 फसल किस्मों के विकास से जुड़े वैज्ञानिकों को सम्मानित किया। साथ ही अगले महीने सेवानिवृत्त होने वाले वरीय वैज्ञानिक डॉ रविंद्र प्रसाद को सम्मानित किया गया।

फसल प्रजाति क्षेत्रीय स्तर पर विकसित हो

काउंसिल के एग्रीकल्चर एक्सपर्ट डॉ बीएन सिंह ने विवि अधीन कार्यरत तीन क्षेत्रीय अनुसंधान केन्द्रों में बेहतर प्रदर्शन कर रही फसल प्रजाति को क्षेत्रीय स्तर पर विकसित करने और राज्य वेरायटल रिलीज कमेटी से उस सबंधित क्षेत्र के उपयुक्त अनुशंसित जर्ने की जरूरत पर जोर दिया। उन्होंने उपराऊ भूमि के उपयुक्त अनेकों फसल किस्मों के स्थान पर दो प्रमुख बेहतर फसल किस्मों को प्रोत्साहित करने पर बल दिया। साथ ही बेहतर प्रदर्शन वाली एक-दो काजू किस्मों को चिन्हित कर विकसित करने और वेरायटल रिलीज कमेटी अनुशंसा प्राप्त करने को कहा। बागवानी शोध क्षेत्र में अन्य संस्थानों से विकसित किस्मों को प्रोत्साहित करने के स्थान पर विवि उद्यान विभाग द्वारा राज्य के उपयुक्त बागवानी फसलों के किस्मों को विकसित करने की सलाह दी। राज्य में करंज की बहुलता एवं मांग को देखते हुए करंज पर शोध शुरुआत करने को कहा।

जैविक मिल्क उत्पादन को बढ़ावा दें

वेटनरी एक्सपर्ट डॉ एके ईश्वर ने जैविक मिल्क उत्पादन को बढ़ावा, अंडा में कोलस्ट्रोल की उपस्थिति और इसे दूर करने, ए 2 मिल्क पर विशेष कार्य की दिशा में शोध करने पर बल दिया। उन्होंने उन्नत नस्ल झारसुक एवं झारसीम के अगले अनेक वर्षो तक रिवाइवल के लिए शोध और शोध कार्यक्रमों को लंबी अवधि तक शोध जारी रखने पर बल दिया। मौके पर किसानों में सिबन कुमार महतो एवं शैलेश मुंडा ने देशी खेती एवं आधुनिक कृषि पर अपने विचारों को रखा।

काउंसिल ने की ये अनुशंसा

काउंसिल की बैठक में कृषि कार्यों में कृषि वानिकी को बढ़ावा देने, गर्मी की अपेक्षा सर्दियों में वन व पौधे की विशेष देखभालख्‍ मध्य मई माह में 50 से. मी. x 50 से. मी. की गहराई में पौधा रोपण से अधिक जड़ प्राप्त करने, अश्वगंधा में 5 टन प्रति हेक्टेयर कम्पोस्ट, 7.5 टन प्रति हेक्टेयर नीम केक के प्रयोग को अनुशंसा प्रदान की। बैठक के दौरान एग्रीकल्चर की रिपोर्टिंग डॉ नीरज कुमार, वेटनरी की रिपोर्टिंग डॉ नंदिनी कुमारी और फॉरेस्ट्री की रिपोर्टिंग डॉ कौशल कुमार ने की।

बैठक में ये भी थे मौजूद

स्वागत में निदेशक अनुसंधान डॉ एसके पाल ने खरीफ रिसर्च काउंसिल की प्रमुख बिंदुओं और अनुशंसाओं पर प्रकाश डाला। आगामी खरीफ कार्यक्रमों की रणनीति पारित करने के लिए कुलपति, एक्सपर्ट एवं वैज्ञानिकों का आभार जताया। धन्यवाद उप निदेशक अनुसंधान डॉ सीएस महतो ने दी। मौके पर डॉ एमएस यादव, डॉ सुशील प्रसाद, डॉ एमएस मल्लिक, डॉ एमके गुप्ता, डॉ नरेंद्र कुदादा, डॉ एमएस मल्लिक, डॉ डीके शाही, डॉ सोहन राम एवं डॉ एस कर्माकार, किसानों में सिबन कुमार महतो एवं शैलेश मुंडा सहित विवि के विभिन्न विभागों, कृषि विज्ञान केन्द्रों और क्षेत्रीय अनुसंधान केन्द्रों के वैज्ञानिक भी मौजूद थे।