मनरेगा के जूनियर इंजीनियर को एसीबी ने 10 हजार घूस लेते किया गिरफ्तार

झारखंड
Spread the love

चतरा। मनरेगा के जूनियर इंजीनियर को भ्रष्‍टचार निरोधक ब्‍यूरो (एसीबी) की टीम ने 10 हजार रुपये घूस लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया। वह कुआं निर्माण की राशि देने के लिए लाभुक से पैसे घूस ले रहा था।

ब्यूरो की टीम ने 29 जून को मनरेगा के कनीय अभियंता निजामुद्दीन को 10 हजार रुपये घूस लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार कि‍या। कनीय अभियंता चतरा जिले के सिमरिया प्रखंड में पदस्थापित था। वह चतरा जिला मुख्यालय स्थित लाइन मोहल्ला आजाद नगर का रहने वाला है। उसकी गिरफ्तारी शहर पुराना पेट्रोल पंप के समीप से हुई है।

जानकारी के मुताबिक सिमरिया के गोवाकला निवासी उर्मिला देवी मनरेगा से कूप का निर्माण करा रही है। कूप की प्राक्कलित राशि 4,47,624 रुपये है। काम के विरुद्ध लाभुक को 1.35 लाख रुपये का भुगतान हो चुका है। निर्माण का कार्य पूरा हो चुका है। शेष राशि की निकासी के लिए लाभुक ने अनुबंधित कनीय अभियंता निजामुद्दीन से संपर्क किया।

जेई ने पैसा भुगतान करने के एवज में 15 हजार रुपये की मांग की। उर्मिला देवी रिश्वत देना नहीं चाहती थी। उन्‍होंने ब्यूरो के हजारीबाग स्थित कार्यालय से संपर्क किया। कनीय अभियंता के खिलाफ लिखित शिकायत की। जांच के बाद ब्‍यूरो ने घूस मांगने की बात सही पाई। इसके कारण उसकी गिरफ्तारी की गई।