jharkhand : स्‍कूलों में 6 जून से शुरू हो रही वार्षिक परीक्षा, ये हैं निर्देश

झारखंड शिक्षा
Spread the love

रांची। झारखंड के सरकारी स्‍कूलों में पढ़ने वाले कक्षा 1 से 7 तक के विद्यार्थियों की वार्षिक परीक्षा 6 जून से शुरू हो रही है। यह 15 जून, 2022 तक चलेगी। यह परीक्षा दो भागों में होगी। पहला Term I (योगात्मक मूल्यांकन (SA) -1) तथा दूसरा Term-II (योगात्मक मूल्यांकन (SA) II )। दोनों परीक्षा की समयावधि 1.30 घंटे की होगी। इसे लेकर सामान्‍य निर्देश जारी किये गये हैं।

Term -1 के लिए सामान्य निर्देश

Term – 1 (योगात्मक मूल्यांकन (SA) I) के लिए कक्षा-3 से कक्षा-7 तक प्रश्नों की संख्या 20 होगी। सभी प्रश्न वस्तुनिष्ठ प्रकार के होंगे। प्रत्येक प्रश्न के लिए 1 अंक निर्धारित है। सभी प्रश्नों के उत्तर देना अनिवार्य है।

कक्षा-3 से कक्षा-7 तक की परीक्षा लिखित होगी। कक्षा-1 एवं 2 की परीक्षा मौखिक होगी। कक्षा-3 से कक्षा 7 के प्रत्येक प्रश्नपत्र में 20 प्रश्न हैं। प्रत्येक प्रश्न के लिए 2 अंक निर्धारित है।

प्रत्येक सही उत्तर के लिए 2 अंक और गलत उत्तर के लिए 0 अंक दें।

कक्षा-1 एवं 2 की परीक्षा शिक्षक अपने विद्यालय में मौखिक रूप से लेंगे।

मौखिक परीक्षा प्रत्येक छात्र / छात्रा का लेना है।

कक्षा-1 एवं 2 की मौखिक परीक्षा 15 प्रश्न दिए गए हैं।

शिक्षक 15 में से कोई 10 प्रश्न ही बच्चों से पूछेंगे।

शिक्षक बच्चों से प्रश्न पूछेंगे। अगर उत्तर के विकल्प भी दिए गए हों, तो प्रश्न के साथ-साथ बच्चों को विकल्प भी पढ़ कर सुनाएंगे। यह ध्यान रखेंगे कि इस प्रक्रिया में बच्चों को सही उत्तर का पता नहीं चले।

अगर प्रश्न में चित्र या सामग्री दिखाना हो, तो इसकी पूर्व तैयारी कर लेंगे।

प्रक्रिया को बच्चों की मातृभाषा में भी दुहराएंगे। अर्थात बच्चों से मौखिक परीक्षा के प्रश्न बच्चों की मातृभाषा में भी पूछेंगे।

बच्चों से कोई प्रश्न 2 से अधिक बार नहीं पूछेंगे।

प्रत्येक प्रश्न के लिए 4 अंक निर्धारित है।

प्रश्न पूछने पर अगर बच्चा उत्तर नहीं देता या गलत उत्तर देता है या चुप रहता है, तो कोई अंक नहीं मिलेगा अर्थात 0 अंक दें। प्रश्न का सही उत्तर देने पर 4 अंक दें। प्रश्न का आंशिक उत्तर देने पर बच्चे द्वारा दिए आंशिक उत्तर के आधार पर 1 से 3 अंक दें।

अगर बच्चा मौखिक प्रश्नों के उत्तर अपनी मातृभाषा या क्षेत्रीय भाषा में देता है, तो उसका उत्तर मान्य होगा।

Term –II के लिए सामान्य निर्देश

Term – II (योगात्मक मूल्यांकन (SA) II ) के लिए कक्षा 3 से कक्षा 7 तक कुल प्रश्नों की संख्या 13 होगी। प्रश्न वस्तुनिष्ठ, लघु उत्तरीय तथा दीर्घ उत्तरीय प्रकार के होंगे। सभी प्रश्नों के उत्तर देना अनिवार्य है।

कक्षा-3 से कक्षा-7 तक की परीक्षा लिखित होगी। कक्षा-1 एवं 2 की परीक्षा मौखिक होगी।

कक्षा-3 से कक्षा-7 के प्रत्येक प्रश्नपत्र में 13 प्रश्न है। प्रत्येक प्रश्न के लिए निर्धारित अंक उसके साथ अंकित है।

कक्षा-3 से कक्षा 7 की उत्तरपुस्तिकाओं के मूल्यांकन के लिए अंक योजना (Marking Scheme) जेसीईआरटी द्वारा आदर्श उत्तरपत्रकों के साथ यथासमय उपलब्ध कराई जाएगी।

कक्षा-1 और 2 की परीक्षा शिक्षक अपने विद्यालय में मौखिक रूप से लेंगे।

मौखिक परीक्षा प्रत्येक छात्र / छात्रा का लेना है।

कक्षा-1 एवं 2 की मौखिक परीक्षा के लिए 15 प्रश्न दिए गए हैं।

शिक्षक 15 में से कोई 10 प्रश्न ही बच्चों से पूछेंगे।

शिक्षक बच्चों से प्रश्न पूछेंगे। अगर उत्तर के विकल्प भी दिए गए हो तो प्रश्न के साथ-साथ बच्चों को विकल्प भी पढ़ कर सुनाएंगे। यह ध्यान रखेंगे कि इस प्रक्रिया में बच्चों को सही उत्तर का पता नहीं चले।

अगर प्रश्न में चित्र या सामग्री दिखाना हो तो इसकी पूर्व तैयारी कर लेंगे।

प्रक्रिया को बच्चों की मातृभाषा में भी दुहराएंगे। अर्थात बच्चों से मौखिक परीक्षा के प्रश्न बच्चों की मातृभाषा में भी पूछ सकते हैं।

बच्चों से कोई प्रश्न 2 से अधिक बार नहीं पूछेंगे।

प्रत्येक प्रश्न के लिए 4 अंक निर्धारित है।

प्रश्न पूछने पर अगर बच्चा उत्तर नहीं देता या गलत उत्तर देता है या चुप रहता है, तो कोई अंक नहीं मिलेगा अर्थात 0 अंक दें। प्रश्न का सही उत्तर देने पर 4 अंक देंगे। प्रश्न का आंशिक उत्तर देने पर बच्चे द्वारा दिए आंशिक उत्तर के आधार पर 1 से 3 अंक दें।

अगर बच्चा मौखिक प्रश्नों के उत्तर अपनी मातृभाषा या क्षेत्रीय भाषा में देता है, तो उसका उत्तर मान्य होगा।