spot_img
spot_img
Homeझारखंडटीका औषधि उत्पादन प्रयोगशाला का निरीक्षण का बोले सीएम, यह बनेगा देश...

टीका औषधि उत्पादन प्रयोगशाला का निरीक्षण का बोले सीएम, यह बनेगा देश का महत्वपूर्ण केंद्र

  • हर साल पशु-पक्षियों के लिए 6 प्रकार के लगभग एक करोड़ टीकों का होगा उत्पादन

रांची। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने 25 मई को रांची के कांके स्थित पशु स्वास्थ्य एवं उत्पादन संस्थान के निर्माणाधीन जीएमपी/ जीएलपी स्तर के टीका औषधि उत्पादन प्रयोगशाला का निरीक्षण किया। उन्होंने प्रयोगशाला की प्रोडक्शन यूनिट और क्वालिटी कंट्रोल यूनिट के बन रहे भवन का बारीकी से मुआयना कर संबंधित अधिकारियों को कई निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में पशुपालन विभाग की यह एक अति महत्वपूर्ण योजना है। यहां जानवरों और पक्षियों के लिए टीका का निर्माण होगा। इसे शीघ्र चालू करने के लिए सरकार प्रयासरत है। इस सिलसिले में वरीय अधिकारियों की बहुत जल्द बैठक कर पूरी योजना की समीक्षा की जाएगी, ताकि यहां से टीका उत्पादन का कार्य प्रारंभ हो सके।

ससमय चालू करने की कार्य योजना बनेगी

मुख्यमंत्री ने कहा कि औषधि उत्पादन प्रयोगशाला 2014 की योजना है। इसके चालू होने में विलंब हो चुका है। ऐसे में आज के हिसाब से इसमें बदलाव की जरूरत महसूस हो रही है। इसे लेकर विस्तृत कार्य योजना बनाई जाएगी, ताकि अब निर्धारित समय के अंदर इसे चालू किया जा सके। इसमें जो भी अड़चन होगी, उसे अविलंब दूर किया जाएगा।

ज्यादा से ज्यादा उपयोगी बनाने की जरूरत

मुख्यमंत्री ने टीका उत्पादन प्रयोगशाला के बन रहे भवन में कुछ बदलाव के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि यहां लिफ्ट और रैंप की भी व्यवस्था की जानी चाहिए, ताकि सामानों के परिवहन का कार्य सुगमता से हो सके। इसे ज्यादा से ज्यादा उपयोगी बनाने की जरूरत है।   मालूम हो कि लगभग 28 करोड़ 69 लाख 90 हजार रुपये की लागत से इसका निर्माण हो रहा है।

हर साल एक करोड़ टीका का उत्पादन होगा

पशु स्वास्थ्य एवं उत्पादन संस्थान के अधिकारियों ने मुख्यमंत्री को बताया कि प्रयोगशाला के भवन निर्माण का कार्य लगभग पूरा हो चुका है। अब उपकरणों को लगाने की तैयारी की जा रही है। इस प्रयोगशाला में हर साल लगभग एक करोड़ टीका का उत्पादन होगा। यहां पशु पक्षियों के लिए 6 तरह के टीके बनाए जाएंगे। इसमें गलघोटू (एच एस), बीक्यू, एंथ्रेक्स, स्वाइन फीवर और पोल्ट्री वैक्सीन (रानीखेत) शामिल हैं।

जैव विविधता उद्यान का किया अवलोकन

मुख्यमंत्री ने बिरसा कृषि विश्वविद्यालय के जैव विविधता उद्यान का भी अवलोकन किया।  मुख्यमंत्री ने यहां ऑर्गेनिक फार्मिंग शुरू करने पर जोर दिया। कहा कि यहां से उत्पादित फसलों और वेजिटेबल्स के देश-विदेश में सप्लाई की भी व्यवस्था होनी चाहिए। इसके साथ यहां रिटेल आउटलेट भी खोलने की योजना बनाई जाए, ताकि स्थानीय लोग इसका लाभ ले सके।

निरीक्षण के क्रम में ये भी थे मौजूद

निरीक्षण के क्रम में मुख्यमंत्री के साथ मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजीव अरुण एक्का, भवन निर्माण विभाग के सचिव सुनील कुमार, कृषि विभाग के सचिव अबू बकर सिद्दीख पी, बिरसा कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ ओंकार सिंह, और पशु स्वास्थ्य उत्पादन संस्थान के डायरेक्टर डॉ विपिन महथा समेत कई अन्य अधिकारी मौजूद थे।

spot_img
- Advertisement -
Must Read
- Advertisement -
Related News