स्वास्थ्य मंत्री बड़े-बड़े भाषण देने के बजाए जमीन पर काम करें : प्रदीप वर्मा

झारखंड
Spread the love

रांची। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश महामंत्री प्रदीप वर्मा ने एमजीएम अस्पताल में जांच व्यवस्था ठप होने पर सवाल खड़ा कि‍या। उन्‍होंने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री के क्षेत्र की स्थिति से स्पष्ट है कि गांव गांव की हालत क्या होगी। उन्होंने कहा कि एमजीएम में पिछले एक महीने से जांच नहीं होना चिंताजनक है। उन्होंने कहा कि नि:शुल्क जांच बंद होने से गरीब को पैसे देकर जांच करानी पड़ रही है।

वर्मा ने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री बड़े-बड़े भाषण देने के बजाए जनता के लिए जमीन पर उतरकर काम करें। बड़ी-बड़ी बात के बजाए छोटे-छोटे कार्य शुरू करें। पूरे प्रदेश में स्वास्थ्य की स्थिति बद से बदतर हो गयी है। जनता त्राहिमाम है। गांव-गांव में स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा गई है। उन्होंने कहा कि हेमंत सरकार भ्रष्टाचार के आकंठ में डूब गई है। यही कारण है कि जमीन पर काम नहीं हो रहा है।

महामंत्री ने कहा कि हेमंत सरकार की स्थिति यह है कि कोरोना काल में केंद्र सरकार द्वारा प्राप्त दवाओं को बांटा भी नहीं जा सका। कोरोना टेस्ट के लिए जीनोम सिक्वेंसिंग मशीन की खरीद भी नहीं हो सकी। कोरोना जांच लोगों को ज्यादा पैसे देकर कराना पड़ा। कोरोना काल में स्वास्थ्य व्यवस्था बद से बदतर हो गया। बेड की बोली लग रही थी। लोग ऑक्सीजन के लिए त्राहिमाम कर रहे थे। इस सरकार को जमीन पर उतरकर काम करने की जरूरत है।